यूपी में विधानसभा उपचुनाव की रेस

alliancetoday
alliancetoday

एलायंस टुडे ब्यूरो

लखनऊ । यह तैयारी उपचुनावों की होगी, जो बीजेपी के विधायक और मंत्रियों के जीतने की सूरत में बनेगी। प्रदेश सरकार के 4 मंत्री और तीन विधायक इस बार चुनाव मैदान में हैं। एग्जिट पोल के नतीजों इन सीटों पर छह महीने के भीतर उपचुनाव जैसी स्थिति को बल दे रहे हैं।

बीजेपी ने कैबिनेट मंत्री सत्यदेव पचौरी को कानपुर से चुनाव मैदान में उतारा है जबकि रीता बहुगुणा जोशी इलाहाबाद सीट से चुनाव लड़ रही हैं। आगरा की सीट से एसपी सिंह बघेल प्रत्याशी हैं। मुकुट बिहारी वर्मा अंबेडकर नगर से चुनाव लड़ रहे हैं। इसके अलावा विधायकों में देखा जाए तो उपेंद्र रावत, राम कुमार पटेल और संगम लाल गुप्ता चुनाव मैदान में हैं। अगर चुनाव परिणाम इनके पक्ष में आते हैं तो जाहिर है कि चुनाव आयोग को अगले छह महीने के भीतर इन सीटों पर उपचुनाव कराना होगा। ऐसे में हर राजनीतिक दल इनकी तैयारियों में जुट जाएगा।

अमेठी का परिणाम भी तय करेगा उपचुनाव कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी इस बार दो सीटों से चुनाव लड़ रहे हैं। वह उत्तर प्रदेश की अमेठी के अलावा केरल की वायनाड से भी चुनाव मैदान में हैं। अमेठी का परिणाम और वह किस सीट को बरकरार रखेंगे, इससे अमेठी की लोकसभा सीट पर उपचुनाव की स्थितियां तय होंगी। फिलहाल कांग्रेस में अंदरखाने यह चर्चा है कि दोनों सीटें जीतने की सूरत में राहुल वायनाड सीट को बरकरार रखेंगे और अमेठी छोड़ देंगे, जहां से कांग्रेस महासचिव और पूर्वी उत्तर प्रदेश में कांग्रेस मामलों की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा चुनाव लड़ेंगी।

कैबिनेट में फेरबदल भी संभव बीजेपी ने प्रदेश सरकार के चार कैबिनेट मंत्रियों को चुनाव मैदान में उतारा है। इन प्रत्याशियों के जीतने पर कैबिनेट मंत्री का पद इन्हें खाली करना होगा। ऐसे में कैबिनेट में भी बदलाव की संभावनाएं बनेंगी। जाहिर है कि यह काम केंद्र सरकार के गठन के साथ ही शुरू हो जाएगा। सत्यदेव पचौरी के पास सूक्ष्म और लघु उद्योग विभाग के मंत्री हैं, जबकि रीता बहुगुणा जोशी के पास महिला कल्याण विभाग है। एसपी सिंह बघेल के पास मत्स्य विभाग है और मुकुट बिहारी वर्मा सहकारिता मंत्री हैं।

 

Share on

Leave a Reply

Your email address will not be published.