Election: जातीय प्रतिबद्धता के साथ ही, सेंधमारी का अहसास भी – पटना साहिब

alliancetoday
alliancetoday

एलायंस टुडे ब्यूरो

नई दिल्ली। ग्यासपुरा गंगा घाट पर बना पीपा पुल पार करतीं महिलाएं चिलचिलाती धूप। साड़ी के पल्लू से सिर ढंकने से ज्यादा गोद में लिए बच्चे को धूप से बचाने की फिक्र। मतदान कर लौटतीं इन महिलाओं को देख लगा कि लोकतंत्र का भविष्य उज्ज्वल है। दियारा के इस इलाके में मतदाताओं में उत्साह दिखा। जातीय प्रतिबद्धता दिखी, तो उसमें सेंधमारी का अहसास भी हुआ। पटनासाहिब लोकसभा सीट के तहत बख्तियारपुर और फतुहा विधानसभा क्षेत्र में जहां पंजे पर लालटेन वाले छाप छोड़ते दिखे, तो तीर भी कमल की मजबूत चौकसी करता नजर आया। बख्तियारपुर विधानसभा क्षेत्र के काला दियारा में यदुवीर यादव वोटों में बिखराव को लेकर चिंतित थे। बोले कुछ लोगों की निष्ठाएं बदल गई हैं। काला दियारा के ही संतोष महतो रालोसपा या उसके नेता को नहीं जानते। अलबत्ता नीतीश कुमार का नाम लेते ही उनके चेहरे पर मुस्कान जरूर तैर जाती है। प्राथमिक विद्यालय महाजी ग्यासपुरा घाट से वोट डालकर निकले रामजतन राय ने दो टूक कहा कि वोट देकर शत्रुघ्न   सिन्हा का कर्ज चुकाया है। उन्होंने ही गंगा पर पीपा पुल बनवाया था। बख्तियारपुर के अंचल कार्यालय में नया टोला राघोपुर के बूथ पर लालटेन छाप का जोर दिखा। वहीं, राजपूत मतदाताओं का झुकाव देश और विकास की ओर दिखा। यादव मतदाता यहां काफी उत्साह से वोट करते दिखे। हकीकतपुर स्थित डाक बंगला से वोट डालकर निकल रहे शंभूनाथ वर्मा के चेहरे पर चमक थी। बोले यहां डाकबंगला के नाम पर झोंपड़ी थी। वो कहते हैं कि नीतीश कुमार भी इसी बूथ पर वोट डालने आते थे। अब सुना है, उन्होंने अपना वोट पटना में बनवा लिया है। मतदान केंद्र के बाहर दुकान करने वाले मोहम्मदपुर के फिरोज कहते हैं कि गांव में मुस्लिमों के करीब 200 घर हैं। वोटों में कोई बिखराव नहीं है। नया टोला माधोपुर के मोहम्मद कुद्दूस कहते हैं कि देश में अमन चाहते हैं सो बदलाव के लिए वोट किया है। रवाइच में नवयुवक संघ पुस्तकालय स्थित बूथ पर पवन कुमार सिंह ने कहा कि यहां राष्ट्रहित में मतदान हो रहा है। प्राथमिक स्कूल, ददौर में वोटर जातिगत प्रतिबद्धता दिखाते दिखे। बिहटा अल्लीपुर में लालटेन का पलड़ा भारी दिखा। विधिपुर दियारा में 10 बजे तक 650 में से 104 वोट डाले जा चुके थे। मछरियावां और दनियावां में कुर्मी, यादव, पासवान सहित अन्य जातियों के वोट हैं। अपवादों को छोड़ दें तो यहां पूरी तरह जातिगत आधार पर मतदान होता दिखा। राजकीय मध्य विद्यालय, संपतचक में भाजपा का पलड़ा कुछ भारी दिखा। पटना साहिब सीट पर भाजपा प्रत्याशी रविशंकर प्रसाद की मौजूदा सांसद व कांग्रेस प्रत्याशी शत्रुघ्न   सिन्हा से सीधी टक्कर है। पटना साहिब लोकसभा की छह में फतुहा को छोड़ पांच विधानसभा सीटों पर भाजपा का कब्जा है। शहरी क्षेत्र भाजपा के लिए हमेशा मुफीद रहा है। ऐसे में शत्रुघ्न   को सबसे ज्यादा उम्मीद फतुहा और बख्तियारपुर विधानसभा क्षेत्रों से ही है। हालांकि शहरी क्षेत्र में मतदान का कम प्रतिशत भाजपा की बेचैनी बढ़ाने वाला है, मगर जदयू के साथ ने उसे राहत भी दी

Share on

Leave a Reply

Your email address will not be published.