विचारों पर ऐसे काबू करें

विचारों पर

रमेश चन्द्र/एलायंस टुडे डेस्क

मन चलता बहुत है पर पहुँचता कहीं नहीं। क्या मेरे विचार मेरे जीवन को प्रभावित करते हैं? कैसे लगाएँ इन मन के घोड़ों पर लगाम? कैसे पाएँ अपनी सोच और मन पर काबू? मन को पवित्र कैसे करें? मन को नियंत्रित कैसे करें? हम बता रहे हैं इनके जवाब।

चंचल मन और विचार
नींद से मेरी आंखें खुली नहीं कि मन निकल पड़ा जिंदगी के विचारों की दौड़ में भागने को! कैसे लगाऊ लगाम इन विचारों के घोड़ों पर? कैसे इस मन पर काबू पाऊँ? कैसे रोकूँ इनके पैरों को दौड़ने से?

इंसान का मन बड़ा चंचल है, कब कहां पहुंच जाता है यह उसके मालिक को भी मालूम नहीं। वह खुद भी हैरान होता है उसके विचारों को देखकर और कई बार तो यह सोचना विचारना सिर दर्द करा देता है। ऐसा ही है यह मन और उसके विचार। कई बार लगता है कि कैसे इसे अलग हो जाऊँ, तो कई बार हम लोग मन ही से सवाल भी करते हैं और उससे जवाब भी चाहते हैं। यह मन बड़ा मुश्किल है। कैसे इसे समझूं और कैसे इसे समझाऊं? थोड़ा टेढ़ा है, पर सीधा हो सकता है।

आखिरकार वह मन है और हम उस मन के विचारों के मालिक हैं। कहते हैं “जो आप सोचते हैं आप वह बन जाते हैं” यह कहावत बस कहने ही के लिए नहीं पर हकिकत मे ऐसा ही है। यदि आप यह विचारधारणा रखते हैं कि आपके जीवन का कुछ नहीं हो सकता तो सच में आप अपने जीवन में कहीं नही पहुंच पाएंगे और यदि आप यह सोचते हैं कि मेरा जीवन बदलेगा तो सच में आपके विचारों के अनुसार आपका जीवन प्रभावित होगा और वे सही रीति से बदलने लगेगा।

कैसे काबू करें विचारों को
अगर सोशल मीडिया पर किसी का चेहरा देखकर आपको यह लगा कि आप उस जन से कम सुंदर हैं या आपको ऐसा लगा कि आप उस इंसान से कम कामयाब हैं तो अपने आप से सवाल करें कि आपको यह विचार क्यों आए? यदि समाज की नंबर 1 रहने की दौड़ के कारण, समाज के प्रेशर के कारण आपको यह विचार आया तो अपने आप में ठान ले कि ऐसी सोच को आगे नहीं देंगे क्योंकि हम सब के जीवन हमारे संघर्ष, हमारे घरों का माहौल, परिस्थितियाँ एक दूसरे से बहुत अलग हैं। यदि आज आप सफल नहीं तो आप कल सफल हो सकते हैं जब तक जिंदगी आपके पास है।

” उम्मीद है, आशा है ” इसलिए हार ना माने। प्रतिदिन अपने आपको उत्साहित करें उन सारी चीजों को अपनी जिंदगी से दूर करें जो आपके मन में बुरे विचारों को लाती है।

-अपने विचारों पर गौर करें कि वह कैसे है, अच्छे हैं या बुरे और फिर ध्यान दे उन विचारों पर कि आपके मन में किसी को लेकर जलन के विचार तो नही आ रहे, डर के विचार, बदला लेने के विचार, गुस्से के विचार। आप जरा खुद ही सोचें किसी की सुंदरता से जलना क्या सही है? किसी की कामयाबी से जलना क्या सही है? बदला लेना क्या सही है? जब तक आप ऐसे विचारों को अपने मन में आने से नहीं रोकेंगे आप तब तक कामयाब नहीं हो पाएंगे। यदि आप अपने जीवन में बड़ोतरी चाहते हैं तो सबसे पहले इन गलत विचारों को अपने दिमाग से अलग करें।

-कई बार ऐसे गलत विचार बुरी आत्माओं के द्वारा भी आते हैं। यदि आपको ऐसा लगता है कि जो विचार आपको सुनाई दे रहे हैं वह आपके दिमाग के नहीं है पर कहीं ओर से आ रहे हैं तो आपको इन बुरी आत्माओं से छुटकारे की जरूरत है। आप ईश्वर से यह प्रार्थना कर सकते हैं कि जलन के विचारों के साथ अपने रिश्ते को तोड़ता हूं या डर के विचारों के साथ अपने रिश्ते को तोड़ता हूं और इन्हें जानता हूं और अपने जीवन से दूर करता हूं।
-अपने आप को सही विचारधारणा वाले लोगों के बीच में रखें क्योंकि सही और अच्छी संगति के कारण बुरे विचारो का आसपास होना मुश्किल है।

-अच्छी किताबे पढ़ें। यह आपको मानसिक रीति से बलवन्त करेगा। मानसिक रीति से मजबूत लोगो का कठिन समय मे दृढ़ रहना सरल है और ऐसे लोग बुरे विचारो को अपनी प्राथमिकता बनने नहीं देते।

आज के समय में हमने सफलता की परिभाषा को पैसे के साथ बदल दिया है। लोग तो गलत मार्गों का सहारा लेकर भी पैसा कमा रहे हैं तो क्या वह सच में सफल है? नहीं। जिस मनुष्य के पास पैसा है और सही विचारधारणा नहीं, अपने विचारों पर कोई काबू नहीं, एक अच्छा चरित्र नहीं, वह एक नाकामयाब मनुष्य है।

विचार हमारा चरित्र बनाते हैं
एक इंसान के मन के विचार उसका चरित्र बनाते हैं, उसका चरित्र खड़ा करते हैं, आपके विचारों ही के द्वारा आपके चरित्र की पहचान होती है। यदि आप अपने जीवन में दूर तक जाना चाहते हैं तो सही और भली विचारधारा को थामे रहें।

आपके विचार और उन विचारों के ऊपर आपका विश्वास ही आपके जीवन को ऊंचाइयों तक ले कर जाएगे और यदि आपके विचारों के ऊपर आपका नियंत्रण नहीं तो ऊपर दिए गए टिप्स को आप अपने जीवन में लागू करें और अपने जीवन को एक सही दिशा दें, सही मकसद दें नहीं तो आप अपने जीवन में कहीं भी नही पहुँच पाएँगे। आज अपने लिए निर्णय ले सही विचारधारणा को चुन कर ताकि कल आपके सही विचार कामयाबी को आपके पास लाए।

Share on

Leave a Reply