अमेठी: बीजेपी कार्यकर्ता हत्याकांड में 5 आरोपी गिरफ्तार, शाम तक खुलासा

 

alliancetoday
alliancetoday

एलायंस टुडे ब्यूरो

यूपी के अमेठी में बीजेपी से जुड़े एक कार्यकर्ता की गोली मार कर हत्या कर दी गई. इस मामले में पुलिस ने 5 लोगों के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज किया है और आगे की कार्रवाई कर रही है.

अमेठी: यूपी के अमेठी में बीजेपी से जुड़े एक कार्यकर्ता की गोली मार कर हत्या कर दी गई. पुलिस ने बीजेपी कार्यकर्ता सुरेंद्र सिंह हत्याकांड मामले में पाचों नामजद अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस सूत्रों के मुताबिक शाम तक इस मामले में प्रेस कॉन्फ्रेंस करके इस घटना का खुलासा किया जा सकता है. पुलिस फिलहाल ये जानकारी कर रही है कि आखिर क्यों इस हत्याकांड को अंजाम दिया गया. पीड़ित परिवार का आरोप है कि कांग्रेस से जुड़े लोग इस हत्याकांड में शामिल हैं.

कैसे हुई हत्या

सुरेंद्र सिंह शादी समारोह से लौट कर घर पहुंचे थे. घर के बाहर बरामदे में जैसे ही सोने के लिए लेटे थे कि तभी अज्ञात बदमाशों ने गोली मार दी. आनन-फानन में सुरेंद्र सिंह को रायबरेली जिला अस्पताल ले जाया गया और वहां से लखनऊ ट्रामा सेंटर रेफर किया गया. लखनऊ ट्रामा सेंटर में डॉक्टरों ने सुरेंद्र सिंह को मृत घोषित कर दिया.

स्मृति ने अर्थी को दिया कंधा

सुरेंद्र सिंह के हत्या की खबर दिल्ली में स्मृति ईरानी को मिली तो पहले स्मृति ईरानी ने एसपी अमेठी से बात की. घटना की जानकारी ली और वह फिर खुद दिल्ली से अमेठी पहुंच गईं. स्मृति ईरानी ने सुरेंद्र सिंह के परिवार से मिलकर उन्हें ढांढस बंधाया और सुरेंद्र सिंह की अंतिम यात्रा में शामिल होकर अर्थी को कंधा भी दिया.

पाताल से भी ढूंढ निकालेंगे हत्यारे को- स्मृति

स्मृति ईरानी ने परिवारे से मिलने के बाद कहा, ”हत्यारा अगर पाताल में भी होगा तो ढूंढ निकालेंगे. मैंने परिवार से सामने संकल्प लिया है कि जिसने गोली चलाई और जिसने गोली चलाने का आदेश दिया उसे सजा दिलाने तक सुप्रीम कोर्ट तक जाएंगे. मुझे 23 मई को अमेठी को संभालने के लिए कहा गया था, इसका संदेश साफ और स्पष्ट है.”

यूपी सरकार भी सख्त

उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से ट्वीट किया गया, ”अमेठी के पूर्व प्रधान श्री सुरेन्द्र सिंह की दुर्भाग्यपूर्ण हत्या पर माननीय मुख्यमंत्री श्री आदित्यनाथ ने डीजीपी को कड़ी कार्रवाई करने और अगले 12 घंटों में परिणाम दिखाने के निर्देश दिये हैं. मामले की जांच के लिए आईजी लखनऊ को भेजा गया है.”

डीजीपी ओपी सिंह ने कहा, ”हम सारे एंगल को देख रहे हैं, हमें कुछ पुरानी रंजिशों का भी पता चला है. राजनीतिक विवाद अगर कोई हो तो उसका भी पता लगा रहे हैं. हमारी टीम बेहद सघन जांच में लगी हुई हैं. अभी तक हमने सात लोगों को हिरासत में रखा है और उनसे कड़ी पूछताछ की जा रही है. इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस से हमें कुछ महत्वपूर्ण सुराग मिले हैं.”

Share on

Leave a Reply

Your email address will not be published.