बाराबंकी शराब कांड को लेकर अखिलेश यादव ने साधा प्रदेश सरकार पर निशाना

alliancetoday
alliancetoday

एलायंस टुडे ब्यूरो

लखनऊ। लोकसभा चुनाव में हार के सदमे से उबरते हुए सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बराबंकी में जहरीली शराब से हुई मौतों और अपराधों को लेकर प्रदेश सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि चुनाव खत्म होते ही प्रदेश अराजकता की भेंट चढ़ गया है और सुशासन का ढोंग करने वालों का सच भी सामने आ रहा है। बाराबंकी में सरकारी ठेके से नकली शराब बेचे जाने पर सवाल उठाते हुए अखिलेश ने भाजपा सरकार के दो साल के कार्यकाल में नकली शराब से सैकड़ों मौतें होने को संवेदनहीनता की पराकाष्ठा बताया। आबकारी विभाग और पुलिस की नाक के नीचे चल रहे मौत के व्यापार को शर्मनाक ठहराते हुए उन्होंने मृतकों के परिजनों को बीस-बीस लाख रुपये की मदद दिए जाने की जरूरत बताई। अखिलेश ने कहा कि मुख्यमंत्री के दावे के विपरीत न तो अपराधी प्रदेश छोड़कर बाहर जा रहे हैं और न ही वे जेल में कड़ी निगरानी में हैं। जेल में माफिया के दरबार लग रहे हैं। वहां से वसूली और हत्या की वारदातों का संचालन होने के भी समाचार हैं। सपा अध्यक्ष ने कहा कि प्रदेश में कोई दिन ऐसा नहीं जाता, जब हत्या, लूट, अपहरण व दुष्कर्म की घटनाएं न होती हों। अपराधियों में कतई खौफ नहीं है, बल्कि पुलिस अपराधियों से भयभीत है। कई जगह दबंग अपराधियों ने पुलिस पर ही हमला कर दिया, जबकि पुलिस के फर्जी एनकाउंटरों की कलई भी जांच पड़ताल में खुल गई है। अखिलेश ने ग्रेटर नोएडा में सपा नेता व सांसद सुरेंद्र नागर की कंपनी में लूट, नजीबाबाद में बसपा नेता एहसान अहमद की हत्या, बुलंदशहर में फिरौती के लिए तीन बच्चों की हत्या, लखनऊ के सराफा में लूट व हत्या सहित कई घटनाएं गिनाईं, जिनका पर्दाफाश नहीं हो सका। दुष्कर्म की घटनाएं भी थमने का नाम नहीं ले रही हैं। सपा अध्यक्ष ने कहा कि प्रशासन की निष्क्रियता और भाजपा नेतृत्व में इच्छाशक्ति की कमी के कारण बढ़ते अपराधों से राज्य सरकार के प्रति जनता में असंतोष बढ़ रहा है।

Share on

Leave a Reply