चुनाव में हार के बाद वापस विक्रमादित्य मार्ग पहुंचे अखिलेश यादव

alliancetoday
alliancetoday

एलायंस टुडे ब्यूरो

लखनऊ। सपा सरकार जाने के बाद सवा दो साल में तीसरा बंगला बदलते हुए पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव एक साल के भीतर फिर विक्रमादित्य मार्ग पर लौट आए हैैं। इसी मार्ग पर पूर्व मुख्यमंत्री के तौर पर मिला बंगला उन्हें पिछले साल खाली करना पड़ा था। तब सुशांत गोल्फ सिटी की एक विला में शिफ्ट होते समय अखिलेश ने भव्य गृह प्रवेश किया था। लोकसभा चुनाव में मिली शर्मनाक हार का ही नतीजा था कि गुरुवार को गुपचुप गृह प्रवेश कर वह विक्रमादित्य मार्ग के 1-ए नंबर के अपने निजी बंगले में चुपचाप आ गए। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव एक साल से भी कम समय में वापस विक्रमादित्य मार्ग लौट आए हैैं। दो जून, 2018 को उन्हें विक्रमादित्य मार्ग का पांच नंबर का बंगला सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद खाली करना पड़ा था। बंगला खाली करने के दौरान हुई तोड़फोड़ को लेकर भी अखिलेश खासी चर्चा में आए थे। बंगले से टोंटी गायब होने की भी खबरें उड़ी थीं, जो लोकसभा चुनाव में भी खूब कही-सुनी गईं। यह बंगला खाली करने के बाद अखिलेश कुछ दिन वीवीआइपी गेस्ट हाउस और ताज होटल में रहे, फिर 15 जून को अंसल की न्यू टाउनशिप में बनी सुशांत गोल्फ सिटी के एक विला में शिफ्ट हो गए थे। अखिलेश के साथ उनके पिता मुलायम सिंह को भी पूर्व मुख्यमंत्री के तौर पर मिला बंगला छोडना पड़ा था। वह भी कुछ दिन वीवीआइपी गेस्ट में रहने के बाद सुशांत गोल्फ सिटी में अखिलेश के बंगले के पास रहने लगे थे। हालांकि, इसी दौरान मुलायम और अखिलेश दोनों ने विक्रमादित्य मार्ग पर अपने बंगले तैयार करने का काम तेज कर दिया था। पिछले दिनों विक्रमादित्य मार्ग का आठ नंबर बंगला तैयार होने के बाद मुलायम उसमें आ गए, जबकि अब इसी मार्ग के 1-ए नंबर बंगले में अखिलेश ने गुरुवार को विधि-विधान से पूजा-पाठ कर प्रवेश किया। इस दौरान अखिलेश व डिंपल के साथ परिवार के सदस्य व पार्टी के कई वरिष्ठ नेता मौजूद रहे। हालांकि अखिलेश के गृह प्रवेश में मुलायम नजर नहीं आए लेकिन, जानकारी होते ही कार्यकर्ताओं की भारी भीड़ लग गई। अखिलेश के घर का सामान भी सुशांत गोल्फ सिटी से विक्रमादित्य मार्ग पर आ गया है। देर शाम उनके गोल्फ सिटी स्थित आवास पर सन्नाटा छाया था। अखिलेश ने अपना नया आशियाना मुख्यमंत्री के सरकारी आवास के ठीक पीछे बनाया है। मुख्यमंत्री का सरकारी आवास कालिदास मार्ग के पांच नंबर बंगले में है, जबकि इसके ठीक पीछे विक्रमादित्य मार्ग का बंगला नंबर 1-ए है। करीब 23 हजार वर्गफीट का यह भूखंड वर्ष 2005 में खरीदा गया था। यहां हेरिटेज होटल बनाने की भी योजना थी लेकिन, होटल के लिए जीर्णोद्धार की अनुमति को लेकर मामला फंसने के बाद अखिलेश और डिंपल ने एलडीए से आवेदन वापस ले लिया था।

Share on

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *