सुषमा स्वराज बोलीं – भारत-चीन आंतकवाद से मिलकर लडे़ंगे


एलायंस टुडे ब्यूरो

बीजिंग। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने रविवार को चीनी समकक्ष वांग यी से मुलाकात की। इस दौरान दोनों देशों के बीच आंतकवाद से मिलकर लड़ने पर सहमति बनी। पड़ोसी देश से रिश्ते सुधारने की कवायद को आगे बढ़ाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 27 अप्रैल को चीन जाएंगे। शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के विदेश मंत्रियों की बैठक में हिस्सा लेने सुषमा स्वराज चार दिन के दौरे पर चीन पहुंची हैं। द्विपक्षीय मुलाकात से पहले वांग ने बीजिंग में सुषमा की अगवानी की। वांग को पिछले माह स्टेट काउंसलर बनाया गया है जिसके बाद वह चीन के पदक्रम में शीर्षस्थ राजनयिक बन गए हैं। वह विदेश मंत्री के पद पर भी बने हुए हैं। मुलाकात के दौरान सुषमा ने वांग को स्टेट काउंसलर बनाने तथा भारत चीन सीमा वार्ताओं के लिए विशेष प्रतिनिधि नियुक्त किए जाने पर बधाई दी। उन्होंने कहा, हम भारत-चीन सहयोग को नई ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए चीनी नेतृत्व के साथ मिलकर काम करेंगे। वांग ने कहा कि द्विपक्षीय संबंधों में उल्लेखनीय विकास हुआ है और दोनों देशों के नेताओं की देखरेख में इस साल सकारात्मक गति भी देखने को मिली है। उन्होंने कहा, इस साल चीन की नेशनल पीपुल्स कांग्रेस के समापन की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति शी जिनपिंग को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से अत्यंत महत्वपूर्ण फोन कॉल मिला। वांग ने कहा कि इस कॉल ने दोनों देशों के बीच वार्ता प्रक्रिया में सकारात्मक गति दी।
उन्होंने कहा, हमारे दोनों नेताओं ने विचारों का गहन आदान-प्रदान किया और चीन भारत संबंधों को आगे बढ़ाने के लिए महत्वपूर्ण सहमति पर पहुंचे। वांग ने कहा, एससीओ में भारत की सदस्यता ने संगठन की संभावनाओं और उसके प्रभाव को व्यापक किया है। साथ ही हमें भारत चीन सहयोग के लिए एक नया मंच भी मुहैया कराया है। मेरा मानना है कि भारत संगठन में सकारात्मक तथा उत्साहवर्द्धक योगदान देता रहेगा। इस मुलाकात से पहले सूत्रों ने बताया कि दोनों नेताओं की मुलाकात, संबंधों को सुधारने के लिए उच्च स्तरीय संवाद को गति देने के दोनों देशों के प्रयासों का हिस्सा है। पिछले साल डोकलाम गतिरोध के बाद दोनों देशों ने तनाव घटाने तथा संबंधों को सुधारने के लिए विभिन्न स्तरों पर वार्ता सहित अपने प्रयास तेज किए हैं। सुषमा और वांग की मुलाकात से ठीक पहले राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल तथा चीन की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना (सीपीसी) के शीर्ष अधिकारी यांग जिशी के बीच शंघाई में मुलाकात हुई थी।

Share on

Leave a Reply