लखनऊ में दौरे पर राष्ट्रपति रामनाथ

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद गुरुवार 14 सितंबर की शाम अपने दो दिवसीय प्रवास पर लखनऊ के खास मेहमान होंगे। राष्ट्रपति बनने के बाद उनकी यह पहली लखनऊ यात्रा होगी। इस दौरान वह अपने गृह जनपद कानपुर भी जाएंगे। लखनऊ में आयोजित एक भव्य समारोह में राष्ट्रपति का नागरिक अभिनंदन भी होगा।
गुरुवार की शाम पौने चार बजे लखनऊ के चौधरी चरण सिंह हवाई अड्डे पर उनकी अगवानी राज्यपाल रामनाईक और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दोनों करेंगे। इसके बाद राष्ट्रपति का काफिला विधान भवन के सामने स्थित अंबेडकर महासभा परिसर के लिए रवाना होगा। शाम 4.05 बजे महासभा पहुंचकर राष्ट्रपति सबसे पहले बाबा साहब डा.भीमराव अम्बेडकर के अस्थिकलश पर पुष्प अर्पण करेंगे। इसके साथ ही वहां पर एक पौधा भी लगाएंगे।महासभा परिसर में स्थित बाबा साहब की प्रतिमा पर राष्ट्रपति माल्यार्पण करेंगे और महासभा के पदाधिकारियों से मुलाकात भी करेंगे।महासभा के अध्यक्ष डा. लालजी प्रसाद निर्मल ने बताया कि राष्ट्रपति बनने से पूर्व रामनाथ कोविंद समय-समय पर महासभा में आयोजित विभिन्न कार्यक्रमों में शामिल होते रहे हैं। राष्ट्रपति बनने के बाद पहली बार महासभा आने से ठीक पहले 17 दिसम्बर 2015 को वह बिहार के राज्यपाल के नाते महासभा आए थे और यहां भारत रत्न बाबा साहब डा.भीमराव अम्बेडकर पर आयोजित एक संवाद में शामिल हुए थे।
अम्बेडकर महासभा में उनका मात्र 15 मिनट का ठहराव होगा। इसके बाद शाम पांच बजे वह इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान पहुंचेंगे। जहां उनका नागरिक अभिनंदन होगा। इसमें भाजपा के सांसद, मंत्रियों के अलावा विधायक व पदाधिकारी भी मौजूद रहेंगे। इस समारोह में मंच पर राष्ट्रपति सहित सिर्फ नौ गणमान्य व्यक्ति ही मौजूद रहेंगे। गुरुवार को उनका रात्रिभोज मुख्यमंत्री आवास पर होगा जबकि वह रात्रि विश्राम राजभवन में करेंगे।शुक्रवार 15 सितंबर को सुबह साढ़े दस बजे राष्ट्रपति यहां पं. दीनदयाल उपाध्याय स्मृति वाटिका पहुंचेंगे और ऋद्धासुमन अर्पित करेंगे। इसके बाद दोपहर सवा दो बजे वह कानपुर में चकेरी हवाई अड्डे के पास ईश्वरीगंज गांव में बनाए विशेष हेलीपैड पर उतरेंगे। दोपहर ढाई बजे ईश्वरीगंज गांव में आयोजित कार्यक्रम में शिरकत करेंगे। वह वहां ‘स्वच्छता ही सेवा’ कार्यक्रम की शुरुआत भी करेंगे। शाम छह बजे वह लखनऊ हवाई अड्डे पहुंचेंगे और फिर वहां से दिल्ली के लिए रवाना हो जाएंगे।

Share on

Leave a Reply