यरुशलम: दूतावास के उद्घाटन को लेकर हिंसक झड़प, 37 फिलिस्तीनी प्रदर्शनकारियों की मौत

एजेंसी

यरुशलम। अमेरीका का नया दूतावास खोले जाने को लेकर गाजा पट्टी में प्रदर्शन कर रहे फिलिस्तीनियों पर इजरायली सुरक्षाबलों ने गोली चला दी, जिसमें 37 प्रदर्शनकारियों की मौत हो गई। फिलिस्तीन के स्वास्थ्य अधिकारियों ने इस बात की पुष्टि की है। गाजा स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार सोमवार को हुए हिंसक प्रदर्शन में 500 से ज्यादा लोगों को चोटें आई हैं। इजरायली सेना ने आरोप लगाया है कि गाजा में सत्तासीन हमास ने प्रदर्शनकारियों को बॉर्डर क्रॉस करने के लिए उकसाया, जिसके बाद उन्हें रोकने के लिए गोलीबारी करनी पड़ी। इस साल मार्च में शुरू हुए इस प्रदर्शन में मरने वालों की संख्या 67 पहुंच गई है। वहीं, इजरायल ने कहा है कि वो किसी भी कीमत पर अपने बॉर्डर की सुरक्षा सुनिश्चित करेगा। प्रदर्शनकारियों पर गोलीबारी की घटना का अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आलोचना किए जाने पर इजरायल ने कहा कि उसे अपनी सीमाओं की सुरक्षा करने का पूरा अधिकार है और वो किसी भी कीमत पर यह सुनिश्चित करेगा की उसकी सीमा में कोई प्रदर्शनकारी घुसने ना पाए। मंत्रालय के मुताबित मारे गये लोगों में 14 वर्षीय एक बच्चा भी है। विरोध के लिए हजारों लोग सीमा पर पहुंचे थे। इस बीच कुछ लोग पथराव करते हुए बाड़ के समीप पहुंच गये और वे उसे पार करने की कोशिश करने लगे। उस पर इस्राइली सुरक्षाकर्मियों ने मोर्चा संभाल रखा था। इस्राइली सेना ने कहा, श्श्करीब 1000 हिंसक उपद्रवी गाजा पट्टी सीमा के समीप जगह जगह जमा हो गये थे और सुरक्षा बाड़ से करीब आधे किलोमीटर दूर हजारों अन्य जुटे थे। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने छह दिसंबर को इस विवादास्पद शहर को इस्राइल की राजधानी के रुप में मान्यता दी थी। अमेरिका के उपविदेश मंत्री जॉन सुल्लिवान दूतावास का उद्घाटन करने के सिलसिले में आये अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल की अगुवाई करेंगे। प्रतिनिधिमंडल में ट्रंप की बेटी इवांका, उनके पति जारेड कुशनर, वित्त मंत्री स्टीवन न्यूचिन हैं। कल इस्राइली प्रधानमंत्री नेतान्याहू ने प्रतिनिधिमंडल का स्वागत किया था।

Share on

Leave a Reply

Your email address will not be published.