बांग्लादेश में आतंकी ठिकाने पर पुलिस ने की छापामारी

ढाका। बांग्लादेश की राजधानी आज गोलियां एवं विस्फोटों की आवाज से गूंज उठी जब पुलिस ने एक छह मंजिला इमारत में छापामारी शुरू की जहां पिछले साल ढाका में हुए देश के सबसे बड़े आतंकी हमले को अंजाम देने वाले प्रतिबंधित इस्लामी समूह के संदिग्ध सदस्य छिपे हुए हैं। बांग्लादेश की अपराध विरोधी एलीट फोर्स ‘रैपिड एक्शन बटालियन’ (आरएबी) ने तंगैल जिले के मध्य इलाके से दो इस्लामियों को गिरफ्तार करने के बाद इलाके से लोगों को बाहर निकाल दिया। आरएबी ने वहां आतंकी ठिकाने पर अभियान शुरू करने की तैयारी की है।

अधिकारियों और प्रत्यक्षदर्शियों ने कहा कि आरएबी के जवानों ने कल मध्यरात्रि के बाद इमारत की घेराबंदी कर दी और नियो-जेएमबी (जमातुल मुजाहिदीन बांग्लादेश) के आतंकियों से आत्मसमर्पण करने को कहा लेकिन उन्होंने जवाब में गोलियां चलाईं और पेट्रोल बम बरसाए जो अब तक जारी है। आरएबी के निदेशक बेनजीर अहमद के अनुसार खुफिया सेवा ने कहा है कि अपार्टमेंट बिल्डिंग की चौथी मंजिल पर आतंकी नेता अब्दुल्ला, उसके दो सहयोगी, उसकी दो पत्नियां और दो बच्चों सहित सात लोग छिपे हैं।

उन्होंने कहा कि आरएबी के जवानों ने अब्दुल्ला से संपर्क किया लेकिन उसने कहा कि उसके पास 50 आईईडी हैं जिससे संकेत मिलता है कि सुरक्षाकर्मियों के हमले की स्थिति में आतंकी जवाबी कार्रवाई करने की क्षमता रखते हैं। अहमद ने कहा, ‘‘हम अब भी हमले से बचने की कोशिश कर रहे हैं और आतंकियों को आत्मसमर्पण करने के लिए कह रहे हैं ताकि निर्दोष बच्चों और महिलाओं की जान बचायी जा सके।’’

आरएबी में सेना, नौसेना, वायुसेना और पुलिस के कर्मी शामिल होते हैं। पुलिस कमांडर मुफ्ती महमूद खान ने कहा कि इमारत से 65 दूसरे लोगों को बाहर निकाला गया है। नियो-जेएमबी इस्लामिक स्टेट की तरफ झुकाव रखता है और उसने एक जुलाई, 2016 को ढाका के एक कैफे पर आतंकी हमला किया था जिसमें एक भारतीय लड़की सहित 22 लोग मारे ग

Share on

Leave a Reply

Your email address will not be published.