बहन ने दुती चंद की पार्टनर पर लगाए गंभीर आरोप, दी जेल भेजने की धमकी

रिश्तेदार के साथ समलैंगिक रिश्ते का खुलासा करने वाली भारत की सबसे तेज धाविका दुती चंद अब मुश्किल की सामना कर रही हैं। उनके सामने अब परिवार द्वारा स्वीकार किए जाने की चुनौती खड़ी हो गई है। हालांकि, परिवारवालों ने इस रिश्ते को अस्वीकार करते हुए दुती का बहिष्कार कर दिया। अब उनकी बड़ी बहन ने दुती की समलैंगिंक पार्टनर पर ब्लैकमेल करने और पैसों की मांग करने का सनसनीखेज आरोप लगाया है।

दुती की बहन सरस्वती चंद ने ‘एएनआई’ से बात करते हुए कहा कि, ‘उसे पैसे और जायजाद के लिए ब्लैकमेल किया जा रहा है। मुझे बड़ी खेद के साथ कहना पड़ रहा है कि यह निर्णय दुती का नहीं है। उसे लड़की के परिवार वाले शादी के लिए ब्लैकमेल कर रहे हैं।

जूनियर बैडमिंटन में सबकी निगाहें गायत्री गोपीचंद पर

सार्वजनिक रूप से माना
एशियाई खेल 2018 में दो रजत पदक जीतने वाली 23 साल की दुती दुनिया की उन कुछ खिलाड़ियों में शामिल हैं, जिन्होंने सार्वजनिक रूप से समलैंगिक रिश्ता स्वीकार किया है। हैदराबाद में ट्र्रेंनग कर रहीं दुती ने बताया, मेरे गांव की 19 साल की महिला से पिछले पांच साल से मेरा रिश्ता है। वह भुवनेश्वर के कालेज में बीए द्वितीय वर्ष की छात्रा है। वह मेरी रिश्तेदार है और मैं जब भी घर आती हूं तो उसके साथ समय बिताती हूं। भविष्य में मैं उसके साथ घर बसाना चाहती हूं।

बहन ने पार्टनर पर लगाए आरोप
100 मीटर दौड़ में 11.24 सेकेंड के समय के साथ राष्ट्रीय रिकॉर्डधारी दुती ने कहा कि उनके माता-पिता ने इस रिश्ते पर कोई आपत्ति नहीं जताई है लेकिन उनकी सबसे बड़ी बहन ने उन्हें परिवार से बाहर करने के अलावा जेल भेजने की भी धमकी दी है। दुती ने कहा, परिवार में बड़ी बहन का दबदबा है। उसने मेरे बड़े भाई को घर से बाहर कर दिया क्योंकि उसे उसकी पत्नी पसंद नहीं थी। उसने मुझे धमकी दी है कि मेरे साथ भी ऐसा ही होगा। लेकिन मैं भी वयस्क हूं जिसकी निजी स्वतंत्रता है।

Tennis: जोकोविच को हरा नडाल नौवीं बार बने इटालियन ओपन चैंपियन

फैसले से मिला हौसला
इस धाविका ने अपनी जोड़ीदार का नाम नहीं बताया लेकिन कहा कि इस मुद्दे पर उच्चतम न्यायालय के फैसले ने उन्हें सार्वजनिक रूप से सामने आने का हौसला दिया। उच्चतम न्यायालय ने पिछले साल ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए आपसी सहमति से वयस्कों के बीच समलैंगिक रिश्तों को गैर आपराधिक करार दिया था, लेकिन ऐसे लोगों के बीच विवाह अब भी भारत में सामाजिक रूप से मान्य नहीं है

Share on

Leave a Reply