प्लेटफाॅर्म नम्बर 4 पर आनी थी ट्रेन लेकिन आ गई 3 पर, मौत

एलायंस टुडे ब्यूरो

लखनऊ। हरैनी रेलवे स्टेशन पर सोमवार को स्टेशन मास्टर की लापरवाही के चलते एक युवक की जान चली गई। जिस प्लेटफॉर्म पर ट्रेन आने का अनाउंसमेंट हुआ, उसके बजाय दूसरे प्लेटफॉर्म पर ट्रेन आने से युवक उसकी चपेट में आ गया। हादसे से गुस्साए ग्रामीणों ने जमकर हंगामा काटा। रेलवे लाइन जाम कर तोड़फोड़ भी की और शव को स्टेशन पर ही रखकर प्रदर्शन करने लगे। करीब तीन घंटे बाद डीआरएम ने मौके पर पहुंचकर मुआवजा देने और उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया तब लोग शांत हुए। बंथरा के लतीफ नगर निवासी प्रदीप (23) सोमवार को अपनी मां सरस्वती और पिता बाबूलाल को डॉक्टर को दिखाने के लिए घर से लखनऊ के लिए निकला था। सुबह 6रू10 बजे कानपुर से लखनऊ जाने वाली मेमू पकड़नी थी। इसी बीच ट्रेन के प्लेटफॉर्म नंबर चार पर आने का अनाउंसमेंट हो रहा था। प्रदीप अपने माता-पिता के साथ रेलवे ट्रैक पार कर प्लेटफॉर्म नंबर चार पर जा रहा रहा था कि अचानक मेमू ट्रेन प्लेटफॉर्म नंबर तीन के ट्रैक पर आ गई। इसकी चपेट में आकर प्रदीप ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। जबकि उसके माता-पिता जख्मी हो गए। हादसे से गुस्साए ग्रामीणों ने हंगामा करना शुरू कर दिया। पटरियां डालकर रेलवे ट्रेक बाधित कर दिया और तोड़फोड़ भी की। स्टेशन मास्टर की लापरवाही से भड़के लोग उनके खिलाफ प्रदर्शन कर कार्रवाई की मांग करने लगे। प्लेटफॉर्म पर शव रखकर प्रदर्शन करने लगे। जिस पर पुलिस ने हल्का बल प्रयोग कर उन्हें हटाया। सूचना पाकर करीब तीन घंटे बाद डीआरएम मौके पर पहुंचे। उन्होंने मुआवजा देने और मामले की जांच कर कार्रवाई करने का आश्वासन दिया तब लोग शांत हुए। ग्रामीणों ने डीआरएम को बताया कि प्रतिदिन 27 हजार एमएसटी धारक पैसेंजर यहां से सफर करते हैं लेकिन यहां यात्री सुविधाओं के नाम पर कुछ नहीं है। ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि जो ओवरब्रिज बना है, वह गलत जगह बनाया गया है, जिसके चलते वह किसी काम का नहीं है। कई बार उचित स्थान पर ओवरब्रिज बनाने की मांग की गई लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई, जिसके चलते ये हादसा हुआ। डीआरएम ने कार्रावाई का आश्वासन दिया है।

Share on

Leave a Reply

Your email address will not be published.