ट्रॉमा में एसी ने दिया धोखा, उमस से मरीज बेहाल

लखनऊ। केजीएमयू ट्रॉमा सेंटर में करीब दो साल पहले लगा सेंट्रल एसी प्लांट ने अभी से धोखा देना शुरू कर दिया है। करोड़ों रुपये की लागत से लगे एसी प्लांट में रविवार को खराबी आ गई। चौथे और पांचवे तल के एसी ने काम करना बंद कर दिया। इन दोनों तल पर वेंटिलेटर, पीआईसी समेत दूसरे विभागों का संचालन हो रहा है। इसकी वजह से गंभीर मरीजों को उमस में दुश्वारियां झेलनी पड़ी। ट्रॉमा सेंटर में 250 से ज्यादा बेड हैं। 150 से ज्यादा स्ट्रेचर हैं। रोजाना 120 से ज्यादा मरीजों की भर्ती हो रही है। तकरीबन दो साल पहले ट्रॉमा सेंटर का सेंट्रल एसी प्लांट दुरुस्त कराया गया। करीब ढाई करोड़ रुपये की लागत से एसी प्लांट लगाया गया। शनिवार को चौथे और पांचवे तल में एसी ने काम करना बंद कर दिया। इन दोनों तलों पर वेंटिलेटर, पीआईसीयू, क्रिटिकल केयर यूनिट समेत दूसरे विभागों के वार्ड का संचालन हो रहा है। एसी के काम न करने से मरीजों को भीषण गर्मी झेलनी पड़ी। शाम करीब साढ़े छह बजे से एसी पूरी तरह से ठप हो गया। इसे दुरुस्त कराने के लिए शताब्दी अस्पताल से कर्मचारियों को बुलाया। जो कि देर रात तक ठीक नहीं किया जा सका। कुछ तीमारदारों ने हवा के लिए खिड़कियां खोली लेकिन राहत नहीं मिली। उमस और गर्मी से मरीजों को सांस लेने में तकलीफ हुई। तीमारदार भी बेहाल रहें। क्वीनमेरी में एसी गड़बड़ ट्रॉमा सेंटर ही नहीं क्वीनमेरी में भी एसी ठीक से काम नहीं कर रहे हैं। यूनिट एक में एसी बंद होने से महिलाओं को खासी दुश्वारियां झेलनी पड़ रही है। गर्भवती महिलाएं हाथ के पंखे से काम चला रही हैं।

Share on

Leave a Reply