टी20 में ऑस्ट्रेलिया को हराकर यह मुकाम हासिल करेगा भारत

जीत की लय बरकरार रखना चाहेगा भारत

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच पहला टी-20 मुकाबला शनिवार को रांची में खेला जायेगा। वनडे सीरीज में जीत हासिल करने के बाद टीम इंडिया आत्मविश्वास से भरी है। इसलिए वह तीन मैचों की टी-20 सीरीज मे भी जीत हासिल करने के नजरिये से मैदान में उतरेगी। खिलाफ वनडे सीरीज़ में भारत के स्पिनरों में चाइनामैन गेंदबाज़ कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल, अक्षर पटेल सबसे प्रभावी रहे तो तेज़ गेंदबाजों में हार्दिक पांड्या, भुवनेश्वर कुमार ने प्रभावित किया था। लेकिन टीम में शामिल किये गये अनुभवी तेज़ गेंदबाज़ आशीष नेहरा पर अब सभी की निगाहें रहेंगी। 38 साल के नेहरा को टी-20 टीम में लिये जाने पर चयनकतार्ओं की काफी आलोचना हुई है ऐसे में उन पर भी मैच में अच्छा प्रदर्शन करने के साथ खुद की मौजूदगी को सार्थक बनाने का दबाव रहेगा। नेहरा ने आखिरी बार राष्ट्रीय टीम की ओर से इस वर्ष फरवरी में इंग्लैंड के खिलाफ इस प्रारूप में खेला था। उनके अलावा बल्लेबाज़ दिनेश कार्तिक की भी टीम में वापसी हुई है, जबकि ओपनर अजिंक्या रहाणे को बाहर रखा गया है और इस निर्णय पर भी सवाल उठे थे। टीम इंडिया में शामिल सबसे उम्रदराज़ खिलाड़ी नेहरा को डेथ ओवरों में सबसे भरोसेमंद माना जाता है। ऐसे भुवनेश्वर और बुमराह के साथ तेज़ गेंदबाजी आक्रमण में उनकी अहम भूमिका रहेगी। नेहरा ने अपने 26 इंटरनेशनल टी-20 मैचों में 34 विकेट निकाले हैं, जबकि आईपीएल में भी सफल गेंदबाज रहे थे।ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या बैटिंग के साथ बॉलिंग में भी दम दिखा चुका हैं। वनडे सीरीज़ में मैन ऑफ द सीरीज़ रहे पांड्या ने छह विकेट के साथ 55.50 के औसत से 222 रन बनाये थे। कप्तान के पसंदीदा बन चुके पांड्या को 2019 विश्वकप के लिये भी अहम माना जा रहा है। वहीं ओपनरों में पत्नी की बीमारी के कारण वनडे सीरीज से बाहर रहे शिखर धवन की वापसी पर भी नज़र रहेगी। वनडे सीरीज़ में रोहित शर्मा 296 रनों के साथ शीर्ष स्कोरर रहे थे। इसके अलावा लोकेश राहुल को भी रहाणे पर तरजीह दी गयी है और उन्हें अब खुद को साबित करना जरूरी होगा। राहुल को वनडे सीरीज़ में मौका नहीं मिल पाया लेकिन कंधे की चोट के बाद उन्हें टी-20 में खुद की फिटनेस भी साबित करना जरूरी होगा। दूसरी ओर ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव स्मिथ ने स्वीकार किया कि प्रदर्शन में निरंतरता की कमी उनकी टीम के लिये बड़ी समस्या बन गया है। उन्होंने कहा था, किसी एक पर हार का ठीकरा फोड़ना गलत होगा। हम लगातार अच्छा प्रदर्शन करने में नाकाम रहे हैं। शीर्ष क्रम से बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद है। ऑस्ट्रेलिया का टी20 क्रिकेट में रिकॉर्ड अच्छा नहीं रहा है। भारत के खिलाफ 13 टी20 मैचों में से उसने सिर्फ चार जीते। वहीं अब तक 93 टी-20 मैचों में 43 हारे और 47 जीते। भारत ने उसे 2007, 2013 और 2016 में तीन तीन टी20 मैचों में हराया। इस सीरीज में ऑस्ट्रेलियाई का लक्ष्य अपनी प्रतिष्ठा बचाने का होगा।

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले जाने वाले पहले टी-20 मुकाबले में खेलने वाले संभावित खिलाड़ी

भारत : शिखर धवन, रोहित शर्मा, विराट कोहली (कप्तान), मनीष पांडे, हार्दिक पांड्या, एमएस धौनी (विकेटकीपर), केदार जाधव, भुवनेश्वर कुमार, कुलदीप यादव, जसप्रीत बुमराह, आशीष नेहरा

आस्ट्रेलिया : डेविड वॉर्नर, आरोन फिंच, स्टीव स्मिथ (कप्तान), ग्लैन मैक्सवेल, ट्रेविस हेड, मोइसेस हेनरिक्स, टिम पेन (विकेटकीपर), नाथन कुल्टर नाइल, जोसन बेह्रन्ड्रॉफ, केन रिचर्डसन, एडम जाम्पा

Share on

Leave a Reply