चेहरे के दाग-धब्बों का इलाज आसान

केजीएमयू के प्लास्टिक सर्जरी विभाग में अत्याधुनिक लेजर तकनीक से इलाज शुरू हो गया है। मशीन का उद्घाटन कुलपति डॉ. एमएलबी भट्टड्ढ ने किया। प्लॉस्टिक सर्जरी विभाग में लेजर मशीन स्थापित की गई। अभी केजीएमयू में दो लेजर मशीने थी। कुलपति डॉ. एमएलबी भट्ट ने कहा कि देश में इस तरह की लेजर तकनीक किसी भी सरकारी अस्पताल उपलब्ध नहीं है। केजीएमयू प्लास्टिक सर्जरी विभाग में तीन प्रकार की लेजर सर्जरी की मशीन हो गई हैं। अब सभी तरह की लेजर सर्जरी केजीएमयू में संभव है। विभागाध्यक्ष डॉ. एके सिंह ने कहा कि चेहरे पर मसा, चेहरे की झुरियां व आग में झुलसे मरीजों की विकृति को लेजर विधि से आसानी से दूर किया जा सकता है। लेजर तकनीक से इलाज पर रक्तस्राव नहीं होता। ऑपरेशन के निशान भी नहीं पड़ते। इस अवसर पर चिकित्सा अधीक्षक डॉ. विजय कुमार समेत अन्य डॉक्टर मौजूद थे। इस मौके पर पूणे से डॉ. श्रीरंग पंडित भी मौजूद थे। लेजर तकनीक से नौ मरीजों का इलाज करके उनके चेहरे की विकृति को ठीक किया गया। इसका लाइव प्रसारण भी दिखाया गया।

Share on

Leave a Reply