काला हिरण शिकार केसः सलमान खान को पांच साल कारावास की सजा

एलायंस टुडे ब्यूरो

नई दिल्ली। दो काले हिरणों की हत्या के मामले में आज स्थानीय अदालत ने बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान को पांच साल कारावास की सजा सुनाई जिसके बाद उन्हें जोधपुर केन्द्रीय कारागार ले जाया गया। अभियोजन पक्ष के वकील ने बताया कि अदालत ने इस मामले में आरोपी अन्य कलाकारों सैफ अली खान, सोनाली बेन्द्रे, तब्बू और नीलम तथा एक स्थानीय निवासी दुश्यंत सिंह को संदेह का लाभ देते हुए बरी कर दिया। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि सलमान खान को अदालत परिसर से पुलिस वाहन में जोधपुर केन्द्रीय कारागार ले जाया गया। चूंकि सलमान को तीन वर्ष से ज्यादा की सजा हुई है, इसलिए उन्हें जमानत के लिए उच्च न्यायालय में अर्जी देनी होगी। सलमान को चैथी बार जोधपुर केन्द्रीय कारागार ले जाया गया है। इससे पहले वह कुल 18 दिनों के लिए तीन बार वर्ष 1998, 2006 और 2007 में भी जोधपुर जेल में रह चुके हैं। गौरतलब है कि मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट देव कुमार खत्री ने 1998 में हुई इस घटना के संबंध में 28 मार्च को मुकदमे की सुनवाई पूरी की थी। उन्होंने फैसला सुरक्षित रख लिया था। अभियोजन पक्ष के वकील महिपाल बिश्नोई ने आज संवाददाताओं को बताया कि अदालत ने सलमान खान को पांच साल कारावास और10,000 रुपये जुर्माने की सजा सुनायी है। सलमान खान को अदालत ने वन्यजीव ( संरक्षण) कानून के प्रावधान 951 के तहत दोषी करार दिया। इस कानून के तहत दोषी को अधिकतम छह साल कैद की सजा हो सकती है। सलमान पर आरोप था कि उन्होंने जोधपुर के निकट कांकाणी गांव के भागोडा की ढाणी में दो काले हिरणों का शिकार किया था। यह घटना हम साथ साथ है फिल्म की शूटिंग के दौरान अक्तूबर, 1998 की है। काली शर्ट पहने सलमान आज सुबह अपने अंगरक्षक के साथ अदालत पहुंचे थे। फैसला सुनाये जाने के वक्त अन्य आरोपी सिने कलाकार भी अदालत कक्ष में मौजूद थे। कुछ के परिजन भी साथ आये थे।

सलमान खान दोषी करार, अन्य पांच आरोपी बरी

सलमान खान और अन्य के खिलाफ शिकार के कुल 3 मामले (दो चिंकारा और दो काले हिरण का शिकार) और आर्म्स ऐक्ट का एक मामला दर्ज किया गया था। सलमान को घोड़ा फार्म हाउस और भवाद गांव चिंकारा शिकार केस में हाई कोर्ट ने बरी कर दिया था। आर्म्स ऐक्ट के केस में भी सलमान पिछले साल बरी हो गए।

1998 में शूटिंग के दौरान किया था शिकार

यह घटना ‘हम साथ साथ हैं’ फिल्म की शूटिंग के दौरान दो अक्तूबर, 1998 की है। सलमान खान के खिलाफ वन्यजीव संरक्षण कानून की धारा 51 और अन्यकलाकार वन्यजीव संरक्षण कानून की धारा 51 तथा भारतीय दंड संहिता की धारा 149 (गैरकानूनी जमावड़ा) के तहत आरोपों का सामना कर रहे हैं।

दो हिरणों का शिकार किया था

सरकारी वकील भवानी सिंह भाटी ने कहा कि उस रात सभी कलाकार जिप्सी कार में थे, सलमान खान वाहन चला रहे थे। हिरणों का झुंड देखने पर उन्होंने गोली चलाई और उनमें से दो हिरण मार दिए थे। उन्होंने कहा, जब लोगों ने उन्हें देखा और उनकी पीछा किया तो ये कलाकर मृत हिरणों को मौके पर छोड़कर भाग खड़े हुए।

सलमान ने खुद को निर्दोष बताया था

अभिनेता सलमान खान ने जनवरी 2017 में जोधुपर की सीजेएम कोर्ट में अपनी गवाही के दौरान खुद को बेकसूर बताया था। उन्होंने कहा था कि मुझे झूठा फंसाया गया है।

वन विभाग ने दर्ज कराया था केस

15 अक्टूबर 1998 को सलमान खान और उनके साथियों के खिलाफ वन विभाग ने जोधपुर में चार केस दर्ज कराए थे। पहला केस आर्म्स एक्ट के तहत और बाकी के तीन काले हिरण के शिकार के मामले में दर्ज किए गए थे।

Share on

Leave a Reply