एसएसपी से शिकायत, फिर भी दर्ज नहीं हुआ मुकदमा

-पूर्वोत्तर रेलवे में दलित कर्मचारी उत्पीड़न का मामला

एलायंस टुडे ब्यूरो
लखनऊ। योगी सरकार में पुलिस कप्तान से शिकायत के बाद भी पुलिस मुकदमा दर्ज नहीं कर रही है। पूर्वोत्तर रेलवे में दलित कर्मचारी के उत्पीड़न के मामले में ऐसा हो रहा है। पीड़ित ने मुख्यमंत्री से न्याय की गुहार की है।

पूर्वोत्तर रेलवे के वाणिज्य विभाग में कार्यरत मुख्य कार्यालय अधीक्षक दलित कर्मी बाबूलाल के मामले में पुलिस मुकदमा दर्ज करने के बजाय हीलाहवाली कर रही है। पूर्व में एसएसपी को भ्ोजी शिकायत में पीड़ित कर्मचारी बाबूलाल का कहना था कि वह अपने कक्ष में कार्य कर रहे थे, तभी वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक के सहायक अजीत सरकार ने उन्हें भद्दी गालियां दीं और जातिसूचक शब्द का इस्तेमाल किया। उन्हें दूसरी जगह तबादला कराने की बात कहने के साथ ही देख लेने की धमकी दी गई। पीड़ित कर्मचारी इसकी शिकायत हजरतगंज पुलिस से करने पहुंचे, तो वहां तैनात पुलिस कर्मी उन्हें इधर-उधर टहलाते रहे। इस पर उन्होंने डाक के जरिये तहरीर दी। इसके बावजूद मुकदमा दर्ज कर दोषी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई। इस पर उन्होंने एसएसपी को पत्र भ्ोजकर शिकायत की। एसएसपी से शिकायत के बाद भी अभी तक मुकदमा दर्ज नहीं किया गया है।
इस मामले में बाबूलाल आज एसएसपी कार्यालय पहुंचे। इस दौरान उन्होंने एसएसपी की अनुपस्थिति में शिकायत सुन रहे अपर पुलिस अधीक्षक डीके सिंह को अपना प्रकरण बताया। इस पर अपर पुलिस अधीक्षक ने सीओ हजरतगंज को जांच कर कार्रवाई करने का निर्देश दिया। बाबूलाल का कहना है कि पुलिस जानबूझ कर मामले को लटका रही है। उन्होंने कहा कि योगी सरकार में दलितों की कोई सुनवाई नहीं हो रही है। उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मामले में हस्तक्ष्ोप कर न्याय दिलाने की मांग की है।

Share on

Leave a Reply