भयंकर ठंड ने दी भारत में दस्तक

एलायंस टुडे ब्यूरो

नई दिल्ली। मंगलवार देर से पश्चिमोत्तर भारत में मौसम का मिजाज बदला हुआ है। मौसम विभाग के मुताबिक जम्मू-कश्मीर और पाकिस्तान के साथ लगते इलाकों में पश्चिमी विक्षोभ के कारण ऐसा हो रहा है। जिस वजह से पश्चिम-उत्तर भारत के कई इलाकों में बर्फबारी और हल्की बारिश हुई है। उत्तराखंड और शिमला में बर्फबारी हुई है जबकि हरियाणा के कुछ इलाकों में बारिश हो रही है। इससे पहले मंगलवार देर रात दिल्ली में हल्की फुहारें गिरीं, हालांकि दिल्ली की हवा (प्रदूषण) में कोई सुधार नहीं आया है बल्कि आगे और खराब होने की संभावना जताई जा रही है। मौसम विभाग का अनुमान है कि पश्चिमी विक्षोभ के कारण गुरुवार को भी मौसम का मिजाज बदला रहेगा। तेलंगाना और केरल में ठंडी हवाएं चलेंगी और बारिश की संभावना है। इसके अलावा जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और अरुणाचल प्रदेश में भी ऐसे ही मौसम का पूर्वानुमान जताया गया है। मौसम विभाग ने पश्चिमी विक्षोभ के कारण पूरे भारत में खुश्क मौसम रहने और ठंडी मंद हवाएं चलने की संभावना जताई है। विभाग का मानना है कि पूरे भारत खासकर दिल्ली में हवा की गुणवत्ता काफी खराब रहने वाली है। ठंडी हवाओं के कारण उत्तर और मध्य भारत में धुंध बढ़ने की संभावना है। उत्तराखंड और शिमला के इलाकों की ऊंची चोटियों में जमकर हिमपात हुआ है। उत्तरांखड में मसूरी और आसपास के क्षेत्र में हिमपात देख पर्यटकों के चेहरे भी खिल उठे। वहीं, मैदानी क्षेत्रों में हल्की बारिश से सर्दी बढ़ गई है। देहरादून में सुबह करीब साढ़े पांच बजे से हल्की बूंदाबांदी शुरू हो गई। जो रुक-रुक कर देर तक जारी रही। साथ ही तेज हवाएं चलने से कड़ाके की सर्दी हो रही है। इसी तरह मसूरी में सुबह निकटवर्ती नागटिब्बा में अच्छा हिमपात हुआ। वहीं, सुरकुंडा में भी हिमपात की सूचना है। बदरीनाथ, केदारनाथ धाम, हेमकुंड, गंगोत्री, यमुनोत्री, गोमुख और नेलांग घाटी में भी अच्छी बर्फबारी की सूचना है। वहीं, गढ़वाल के जिलों में कहीं हल्की बारिश है तो कहीं, आसमान में बादल छाए हैं। कुमाऊं मंडल में भी सुबह के समय रानीखेत, अल्मोड़ा, बाजपुर, नैनीताल, पिथौरागढ़ आदि स्थानों पर बादल छाए रहे। हिमाचल प्रदेश में भारी बर्फबारी के चलते ऊंची चोटियां बर्फ की चादर से ढक गई। शिमला, मनाली, शिकारी देवी और कमरूना में बर्फ गिरी है। चंबा के भरमौर और सिरमौर के हरिपुरधार में सीजन की पहली बर्फबारी हुई है। इससे समूचा प्रदेश शीत लहर की चपेट में आ गया है। बर्फबारी के कारण 100 के करीब रूट प्रभावित हुए हैं और लोगों को कई किलोमीटर पैदल ही अपने गंतव्य तक पहुंचना पड़ा। जबकि कुछ क्षेत्रों में लोग रास्तों में ही फंसे हुए हैं। भारी बर्फ की वजह से पहाड़ी इलाकों में जन जीवन मुश्किल हो गया है। भारी बर्फबारी के कारण कुफरी.नारकंडा और हिंदुस्तान तिब्बत मार्ग को बंद कर दिया गया है।

Share on
Loading Likes...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *