विकास दुबे के केस में पूर्व SO समेत एक इंस्पेक्टर गिरफ्तार

विकास दुबे के केस में पूर्व SO समेत एक इंस्पेक्टर गिरफ्तार

एलायंस टुडे ब्यूरो

कानपुर। उत्तर प्रदेश के कानपुर में हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के घर हुए एनकाउंटर में पूर्व एसओ विनय तिवारी की अहम भूमिका बताई जा रही है। इन्हीं आरोपों के आधार पर चैबेपुर थाने के पूर्व एसओ विनय तिवारी और एक अन्य इन्स्पेक्टर को गिरफ्तार कर लिया गया है।

विनय तिवारी पर आरोप है कि उन्होंने ही विकास दुबे को खबर दे दी थी कि पुलिस उसके घर छापा मारने वाली है।

कानपुर रेंज के आईजी मोहित अग्रवाल ने बताया, चैबेपुर के पूर्व एसओ विनय तिवारी और बीट इनचार्ज के के शर्मा को गिरफ्तार कर लिया गया है। ये दोनों एनकाउंटर के वक्त मौजूद थे लेकिन बीच में ही उस जगह को छोड़कर चले गए।

गैंगस्टर विकास दुबे को बचाने में चैबेपुर थाने के एसओ विनय तिवारी और अन्य पुलिसकर्मियों की संलिप्तता के आरोप लगने के बाद इसकी जांच के आदेश दिए गए थे। शुरुआती जांच में यह सही पाया गया। जांच में सामने आया कि थाने में तैनात कई पुलिस उपनिरीक्षक, हेड कॉन्स्टेबल और कॉन्स्टेबल हिस्ट्रीशीटर दुबे के लिए मुखबिरी कर रहे थे।

Live COVID-19 statistics for
India
Confirmed
0
Recovered
0
Deaths
0
Last updated: 4 minutes ago

कानपुर के एसएसएपी दिनेश प्रभु ने बताया, श्सबूतों के आधार पर यह पाया गया है कि विनय तिवारी और के के शर्मा ने विकास दुबे को सूचना दे दी थी कि उसके घर छापेमारी होने वाली है। इसीलिए वह अलर्ट हो गया था और उसने पुलिस पर हमला कर दिया। यही कारण था कि आठ पुलिसवालों की जान चली गई।

यह भी पढ़ें – Good News: गैंगस्टर विकास दुबे का सहयोगी अमर दुबे हुआ मुठभेड़ में ढेर

पूरा चैबेपुर थाना हुआ लाइनहाजिर

मंगलवार को थाने में तैनात सभी 68 पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर कर दिया गया था। उनके खिलाफ विस्तृत जांच की जा रही है। उसकी रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

बिल्हौर के तत्कालीन पुलिस क्षेत्राधिकारी देवेंद्र मिश्रा ने उन्हें चैबेपुर के थानाध्यक्ष विनय तिवारी और गैंगस्टर विकास दुबे के करीबी रिश्तों का आरोप लगाते हुए कार्रवाई के लिए कथित रूप से पत्र लिखा था।

आरोप ही के विनय तिवारी की विकास दुबे के साथ नजदीकियों के चलते ही उन्होंने दबिश की सूचना विकास तक पहुंचाई।

इसके अलावा अमर 2 जुलाई को हुए शूटआउट से एक दिन पहले ही गांव से बाहर चला गया था। अमर दुबे के परिवार ने पुलिस की कार्रवाई पर सवालिया निशान लगाते हुए अमर के गांव में मौजूद ना होने की बात कही है।

अमर दुबे को कानपुर के शूटआउट में शामिल होने के शक में पुलिस की कई टीमें खोज रही थीं और एसटीएफ ने उसे बुधवार सुबह एक मुठभेड़ में मार गिराया था।

सच्ची और अच्छी खबरों में अपडेट रहने के लिए एलायंस टुडे से और संबंध बनाइए

Subscribe For Latest News Updates

फाॅलो करिए –

YouTube

Facebook

Instagram

Twitter

Share on

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *