वास्तु शास्त्र के अनुसार महिलाएं ऐसे करें रोटी बनाने वाले तवे का इस्तेमाल…

tawa

एलायंस टुडे डेस्क

मार्किट में आजकल बहुत तरह के तवे मौजूद हैं। नार्मल तवा, नॉन स्टिक तवा या फिर बहुत से लोग आजकल मिट्टी के तवे पर रोटी सेकना पसंद करते हैं।
वास्तुशास्त्र के अनुसार घर में मौजूद हर चीज सही दिशा के अनुसार ही पड़ी होनी चाहिए, तभी आपके जीवन में खुशहाली बनी रह सकती है। खासतौर पर रसोई घर में बरकत बनाए रखने के लिए वहां पड़े हर एक सामान का सही दिशा में पड़ा होना चाहिए।

तवे से जुड़े कुछ खास वास्तु टिप्स

खुले में न रखें तवा

वास्तुशास्त्र के अनुसार. खाना पकाने के बाद तवे को हमेशा शेल्फ के नीचे रखना चाहिए। खुले में तवा रखने से घर में वास्तु दोष पैदा होते हैं। यह आपके काम काज में अड़चन पैदा करने का प्रतीक कहलाता है। ऐसे में जब भी रोटियां पका लें, तो तवा ठंडा होने के बाद उसे शेल्फ के नीचे सीधा ही रखें। कुछ लोग तवा उल्टा रखते हैं, ऐसा करने से जीवन में अचानक से घटनाएं घटित होने लगती है।

Live COVID-19 statistics for
India
Confirmed
0
Recovered
0
Deaths
0
Last updated: 5 minutes ago

तवे की सफाई

रोटी पकाने के एक दम बाद तवे पर पानी नहीं डालना चाहिए। इससे मां लक्ष्मी आपसे रूठ सकती हैं। जब तवा थोड़ा ठंडा हो जाए, तो इसे सादे पानी के साथ या फिर सर्फ के साथ हर रोज साफ करें। तवे पर जमी जिद्दी कालिख को तीखी चीज से साफ न करें, बल्कि किसी पत्थर या फिर गोल आकार की वस्तु के साथ इसे साफ करें।

तवे पर छिड़कें नमक

शास्त्रों के अनुसार तवे घर की महिला को रोटी पकाने से पहले तवे पर थोड़ा सा नमक का छिड़काव करना चाहिए। ऐसा करने से घर में अन्न और धन की कभी कमी नहीं आती।

तवा रखने की सही दिशा

वास्तु के अनुसार तवे को हमेशा अपनी दाईं ओर दिशा में रखना चाहिए, यानि जहां खड़े होकर आप खाना पकाती हैं, वहां दाई तरफ कहीं भी तवे को सीधा रख सकती हैं। तवे को कभी भी बाईं तरफ नहीं रखना चाहिए, ऐसा करने से खाना पकाने वाली स्त्री की सेहत पर बुरा असर डलता है।

पहली रोटी गाय की

जब भी खाना पकाने लगें तो पहली रोटी गाय की निकालें और रात को आखिरी रोटी कुत्ते को डालने के लिए पकाएं। घर के नहीं बल्कि बाहर सड़क पर घूमने वाले किसी भी कुत्ते को आप यह रोटी खिला सकते हैं। इससे जीवन में शत्रुओं का आपके ऊपर किया गया हर वार असफल होगा।

Share on

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *