बजट सत्र: दूसरा दिन रहा हंगामें की ओर, कार्यवाही हुई मिनटों में स्थगित


एलायंस टुडे ब्यूरो

नई दिल्ली। संसद के बजट सत्र का दूसरा दिन हंगामेंदार रहा। जहां एक ओर कांग्रेस ने पीएनबी घोटाले को लेकर सदन के भीतर और सदन के बाहर प्रदर्शन किया। वहीं, टीडीपा और शिव सेना ने भी बीजेपी के खिलाफ प्रदर्शन किया जिसके चलेत सदन की कार्रवाई को रोकना पड़ा। संसद के निचले सदन लोकसभा की कार्यवाही मंगलवार को पीएनबी के 12,6०० करोड़ रुपये के घोटाले सहित विभिन्न मुद्दों पर हंगामे के बीच दिनभर के लिए स्थगित कर दी गई। संसदीय मामलों के मंत्री अनंत कुमार ने कहा कि सरकार बैंकिंग अनियमितताओं पर चर्चा के लिए तैयार थी लेकिन हंगामा जारी रहा, जिसके बाद लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने सदन की कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित कर दी। सदन की कार्यवाही सुबह 11 बजे शुरू होने के बाद कुछ ही मिनटों में स्थगित हो गई। इसके बाद जब दोपहर 12 बजे सदन की कार्यवाही दोबारा शुरू हुई तब भी हंगामा बरकरार रहा और विपक्षी सांसद लोकसभा अध्यक्ष के आसन के पास इकट्ठा होकर नारेबाजी करने लगे। अनंत कुमार ने सभी पार्टियों के सदस्यों से अपनी-अपनी सीटों पर लौट जाने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि सरकार पिछले एक साल में बैंकों में हुई अनियमितताओं, अर्थव्यवस्था पर इसके प्रभाव पर चर्चा के लिए तैयार है और वित्त मंत्री अरुण जेटली इस चर्चा पर जवाब देंगे। अनंत कुमार ने कांग्रेस पर चर्चा से भागने का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा, श्यह बजट सत्र का दूसरा चरण है। हमें वित्तीय कामकाज करना है। हमें ग्रांट के लिए विभिन्न मांगों पर चर्चा करनी है। यदि सदन की कार्यवाही सुचारू ढंग से चलेगी तो हर कोई अपने मुद्दे उठा सकता है।श् उन्होंने कहा कि मुझे विशेष रूप से नहीं पता कि कांग्रेस के मेरे साथी क्यों भड़के हुए हैं। वे बैंकिंग में अनियमितताओं पर चर्चा चाहते हैं, हम इसके लिए तैयार हैं। अनंत कुमार ने कहा, “जिन लोगों ने अपराध किया है, उन्हें दंडित किया जाना चाहिए। इतने वर्षों में जो कुछ भी हुआ है, उस पर चर्चा होनी चाहिए। संयुक्त प्रगतिशील गठबंध (यूपीए) सरकार के दौरान जो अपराध और अनियमितताएं हुईं, उन पर भी चर्चा होनी चाहिए।”उन्होंने कहा कि किसी को बचाने का सवाल ही नहीं उठता। कांग्रेस नेता मल्लिकाजुर्न खड़गे ने पूछा कि पीएनबी घोटाले के मुख्य आरोपी नीरव मोदी को देश छोड़कर भागने क्यों दिया गया। उन्होंने कहा, “जनता के पैसे को लूटा गया और दोषियों को देश से भाग जाने दिया गया।”संसद के बजट सत्र का दूसरा चरण छह अप्रैल को समाप्त होगा। इससे पहले शिवसेना के सांसद मराठी को शास्त्रीय भाषा का दर्जा देने की मांग कर रहे थे। इसके साथ ही अन्नाद्रमुक के सदस्य कावेरी प्रबंधन बोर्ड गठित करने की मांग कर रहे थे, उधर तेलुगू देशम पार्टी और वाईएसआर कांग्रेस के सदस्य आंध्रप्रदेश को वित्तीय पैकेज देने और तेलंगाना राष्ट्र समिति के सदस्य तेलंगाना में आरक्षण का कोटा बढ़ाये जाने की मांग को लेकर शोरशराबा करने लगे। ये सभी सदस्य अध्यक्ष के आसन के समीप इकट्ठा होकर जोर-जोर से नारेबाजी करने लगे। लोकसभा के अंदर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और सोनिया गांधी की मौजूदगी में कांग्रेस सदस्य बैंक घोटाला करके विदेश फरार हुए हीरा व्यापारी नीरव मोदी को वापस लाने की मांग कर रहे थे। इसके साथ ही उन्होंने पीएनबी घोटाले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जवाब मांगा। वहीं राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस के आला नेताओं ने संसद परिसर के अंदर महात्मा गांधी की मूर्ति के पास पीएनबी घोटाले को लेकर प्रदर्शन किया।

Share on
Loading Likes...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *