दूसरा बजट सत्र कर रहा हंगामें की ओर इशारा, चलेगा पीएनबी घोटाले का मुद्दा


एलायंस टुडे ब्यूरो

नई दिल्ली। संसद के बजट सत्र का दूसरा चरण हंगामे की ओर इशारा कर रहा है। पूर्वोत्तर के तीन राज्यों में सरकार के गठन से जहां सत्तापक्ष उत्साहित है, वहीं विपक्ष पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) धोखाधड़ी मामले में सरकार को घेरने की कोशिश करेगा। हालांकि, सत्तापक्ष के पास जवाब के तौर पर कार्ति चिदंबरम का मुद्दा है। सरकार सत्र के दौरान बजट के साथ तीन तलाक संबंधी विधेयक और भगोड़े आर्थिक अपराधी विधेयक को पारित कराने की कोशिश करेगी। वहीं, विपक्ष एकजुट होकर पीएनबी बैंक धोखाधड़ी मामले में सरकार को घेरेगा। ऐसे में सत्तापक्ष और विपक्ष के बीच सदन की कार्यवाही को लेकर टकराव हो सकता है। पीएनबी बैंक धोखाधड़ी मामले के बाद कांग्रेस पहले ही सरकार से बैंकों की स्थिति पर श्वेत पत्र लाने की मांग कर चुकी है। सभी विपक्षी दल सहमत हुए तो कांग्रेस बैंक घोटालों की जांच के लिए संयुक्त संसदीय समिति के गठन की भी मांग कर सकती है। त्रिपुरा, नागालैंड और मेघालय में भाजपा और उसके सहयोगियों की जीत से सत्र के दौरान विपक्ष के हमलों की धार कमजोर पड़ी है। पर विपक्ष अपने आक्रामक तेवर बरकरार रखने की कोशिश करेगा। इसलिए, कांग्रेस सहित दूसरे दल आंध्र प्रदेश को विशेष आर्थिक पैकेज की मांग करेंगे ताकि, एनडीए में शामिल टीडीपी को भी अपने साथ जोड़कर सरकार पर दबाव बना सके। कांग्रेस पीएनबी के साथ राफेल सौदे का मामला भी उठाएगी। पर इसके लिए सरकार भी तैयार है। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण कह चुकी है कि वह फ्रांस से लडाकू विमान राफेल खरीद सौदे पर विपक्ष के हर सवाल का जवाब देने को तैयार हैं। ऐसे में संसद के बजट सत्र का दूसरा हिस्सा हंगामेदार होना तय है।संसद के बजट सत्र का दूसरा चरण हंगामेदार रहने की संभावना है। पूर्वोत्तर के तीन राज्यों में सरकार के गठन से जहां सत्तापक्ष उत्साहित है, वहीं विपक्ष पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) धोखाधड़ी मामले में सरकार को घेरने की कोशिश करेगा। हालांकि, सत्तापक्ष के पास जवाब के तौर पर कार्ति चिदंबरम का मुद्दा है।

Share on
Loading Likes...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *