कुंदुरखी चीनी मिल प्रकरण में जांच शुरू

एलायंस टुडे ब्यूरो

गोण्डा। मोतीगंज थाना क्षेत्र अन्तर्गत स्थित कुंदुरखी चीनी मिल के महाप्रबंधक गन्ना के अपहरण की कोशिश में पांच लोगों के विरुद्ध दी गई तहरीर मौके पर क्षेत्राधिकारी मनकापुर सुरेश कुमार रवि व थानाध्यक्ष मोतीगंज फोर्स के साथ जांच करने मौके पर पहुचें। इस सम्बन्ध में बजाज चीनी मिल के महाप्रबंधक गन्ना योगेंद्र सिंह द्वारा शनिवार को दी गई तहरीर में आरोप लगाया है कि वह व वरिष्ठ गन्ना प्रबंधक अरूण कुमार सिंह गन्ना विभाग के सामने खड़े होकर रात करीब नौ बजकर बीस मिनट पर गन्ना किसानों की समस्याओं का निराकरण कर रहे थे कि इसी बीच सफेद रंग की कार आकर सामने रूकी। उसमें करीब आधा दर्जन लोग सवार थे। गाड़ी का गेट खोलकर काजीदेवर गांव निवासी सुशील शुक्ला, गौरव शुक्ला तथा चेनवापुर निवासी तिलक राम दूबे व उनके दो अन्य साथी उनकेे पास पहुंचे और भद्दी-भद्दी गाली देते हुए सीने पर रिवाल्वर लगा कर जान से मारने की कोशिश की। वहीं दूसरी तरफ काजीदेवर गांव निवासी सदाराम सोनकर ने मोतीगंज थाने में दी गई तहरीर में आरोप लगाया है कि वह 20 दिसम्बर को अगैती प्रजाति का गन्ना लेकर कुन्दरखी चीनी मिल बेचने गये थे। 21 दिसंबर को दिन में करीब ग्यारह बजे उनकेे गन्ने को रिजेक्ट लिखकर गन्ने को वापस कर दिया गया। गन्ने से लदी हुई ट्राली को घुमाकर यार्ड में खड़ा कर दिया और वेराइटी पर जाकर शिकायत किया कि उनका अगैती प्रजाति का गन्ना है रिजेक्ट क्यों लिख दिया। उन्होंने कहा कि वह अनपढ़ हैं। उनके साथ धोखा क्यों किया तो मौजूद साहब ने कहा कि पांच सौ रूपये दे दीजिए तो सही कर देंगे। वह दिन भर दौड़ते रहे। शाम को गांव के प्रधान सुशील शुक्ला को फोन किया तो फोन से नाराज होकर गन्ना महाप्रबंधक योगेंद्र सिंह सुरक्षा अधिकारी माहेश्वर शर्मा, वरिष्ठ गन्ना प्रबंधक अरूण सिंह व यूनिट हैड पीएन सिंह तथा आठ दस अज्ञात लोग पहुंचे और उन्हें मारने पीटने लगे। इसी बीच ग्राम प्रधान प्रतिनिधि सुशील शुक्ला पहुंचे तब उनकी जान बची। उधर इस सम्बंध में थानाध्यक्ष मोतीगंज गोरखनाथ सरोज नेे बताया कि तहरीर मिली है। मामले की जांच की जा रही है।

वेराइटी लिखने के नाम पर होती है अवैध वसूली
इस सम्बन्ध में काजीदेवर के प्रधान प्रतिनिधि सुशील शुक्ला का कहना है कि वेराइटी लिखने के नाम पर यूनिट हैड पीएन सिंह व गन्ना महाप्रबंधक योगेंद्र सिंह के शह पर वेराइटी लिखने के नाम पर तीन सौ रूपये से पांच सौ रूपये तक अवैध वसूली की जाती है। मिल प्रबंधतंत्र द्रारा उन्हें एक साजिश के तहत फंसाया जा रहा है

किसानों के हित में काम कर रही मिल
बजाज चीनी मिल कुंदुरखी के महाप्रबंधक गन्ना योगेंद्र सिंह का कहना है कि वेराइटी के नाम पर अवैध वसूली का आरोप निराधार है। चीनी मिल गन्ना किसानों के हित में काम कर रही है और किसी भी गन्ना किसान के साथ बदसलूकी नहीं की जाती है। सदाराम सोनकर द्रारा जो मिल प्रबंधतंत्र पर आरोप लगाया जा रहा है वह निराधार है।

Share on
Loading Likes...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *