एच1बी वीजा के नियमों पर ट्रंप सरकार ने किया बदलाव, नौकरी पर असर


एजेंसी

वाॅशिंगटन। ट्रंप सरकार ने एच1बी वीजा के नियमों में फिर बदलाव किया है जिसका असर अमेरिका में काम रहे भारतीयों पर सीधे तौर पर पड़ सकता है। अमेरिकी सरकार ने एच1बी वीजा नियम सख्त कर दिए हैं। इससे यहां जॉब-वर्क करने वाली भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी कंपनियों के लिए कम वक्त के लिए भारत से कुशलकर्मियों को बुलाने में भारी दिक्कतें हो सकती है। अमेरिकी सरकार की नई नीति के तहत यह साबित करना होगा कि एक या एक से अधिक स्थानों पर जॉब-वर्क की तरह के काम करने के लिए इस वीजा पर बुलाए जा रहे कर्मचारी का काम खास तरह का है और उसे खास जरूरत के लिए बुलाया जा रहा है। सरकार यह वीजा ऐसे कर्मचारियों के लिए जारी करती है जो बहुत उच्च कौशल प्राप्त होते हैं और उस तरह के हुनरमंद लोगों की अमेरिका में कमी होती है। सरकार ने कल सात पृष्ठ का एक नीतिगत दस्तावेज जारी किया जिसमें एच1बी वीजा के नए नियम जारी किए गए हैं। इसके तहत अमेरिका के नागरिकता और आव्रजन विभाग को यह वीजा केवल तीसरे पक्ष के साइट कार्य (कार्यस्थल) की अवधि तक के लिए जारी करने की ही अनुमति होगी। इस तरह इसकी अवधि तीन साल से कम की हो सकती है जबकि पहले यह एक बार में तीन साल के लिए दिया जाता था। बता दें कि यह नियम अमेरिका में लागू हो गया है। इसके लिए ऐसा समय चुना गया है जबकि 1 अक्तूबर 2018-19 से शुरु होने वाले वित्त वर्ष के लिए एच1बी वीजा के आवेदन 2 अप्रैल से आमंत्रित किए जा सकते हैं।

Share on
Loading Likes...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *